Hathras Case: राहुल-प्रियंका पहुंचे डीएनडी टोल प्लाजा, सुरक्षा बल तैनात*

0
23

हाथरस के चंदपा क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता के गांव को आज मीडिया के लिए खोल दिया गया है। बीते कुछ दिनों से पूरे गांव में बैरिकेडिंग थी और मीडिया का प्रवेश भी वर्जित कर दिया गया था। हालांकि प्रशासन से यह अनुमति सिर्फ मीडिया को दी है, यानी राजनेता आदि गांव में नहीं जा सकते।

राहुल-प्रियंका पहुंचे डीएनडी टोल प्लाजा, लंबे जाम से हालात तनावपूर्ण
राहुल और प्रियंका गांधी के साथ ही कांग्रेसी कार्यकर्ता और सांसद डीएनडी टोल प्लाज पहुंच गए हैं। नोएडा पुलिस उन्हें यहां से आगे जाने नहीं दे रही जिसके चलते डीएनडी पर लंबा जाम लग गया है। यहां हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं।

प्रियंका गांधी खुद कार चलाकर हाथरस के लिए रवाना
प्रियंका गांधी अपनी कार खुद चलाकर हाथरस के लिए रवाना हुई हैं। उनके साथ ही राहुल गांधी भी मौजूद हैं। इन लोगों के डीएनडी के रास्ते हाथरस जाने के चलते फ्लाईओवर पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

डीजीपी और अपर मुख्य सचिव ने दिलाया निष्पक्ष जांच का भरोसा
अपर मुख्य सचिव और डीजीपी ने पीड़ित परिवार से करीब आधे घंटे तक बातचीत कर उन्हें निष्पक्ष जांच का भरोसा दिलाया है। दोनों आला अधिकारियों ने बड़ी कार्रवाई के संकेत भी दिए हैं। वहीं परिवार का कहना है कि उन्होंने अपनी शिकायतें अधिकारियों को दी हैं। उन्होंने डीएम की शिकायत भी की है।

प्रियंका गांधी बोलीं- इस बार नहीं जाने दिया तो दोबारा करेंगे प्रयास
दूसरी बार हाथरस के लिए रवाना हुईं प्रियंका गांधी ने कहा है कि अगर इस बार भी हमें जाने नहीं दिया गया तो हम अगली बार कोशिश करेंगे।

राहुल गांधी हाथरस के लिए रवाना
राहुल गांधी गुरुवार के बाद आज फिर हाथरस के लिए रवाना हुए हैं। वह करीब 35 बड़े नेताओं के साथ हाथरस जा रहे हैं। इस वक्त वह डीएनडी की ओर बढ़ रहे हैं।

यूपी गेट पर लगा जाम
राहुल और प्रियंका गांधी के हाथरस जाने की खबर के बाद यूपी गेट पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने बैरिकेड लगा दी है। एक-एक वाहन की जांच की जा रही है। इस कारण दिल्ली से गाजियाबाद की ओर करीब एक किलोमीटर लंबा जाम लग गया है।

पीड़िता के घर पहुंचे अपर मुख्य सचिव और डीजीपी
उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी और डीजीपी घर पहुंच चुके हैं। दोनों परिवार से बात कर रहे हैं।

हाथरस पहुंचे अपर मुख्य सचिव और डीजीपी, जल्द पहुंचेंगे गांव
पीड़िता के परिवार से मिलने लखनऊ से आज अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी और डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी हाथरस पहुंच चुके हैं। दोनों यहां हेलिकॉप्टर से पहुंचे हैं। कुछ ही देर में यह लोग पीड़िता के गांव पहुंच जाएंगे। इस बीच पीड़ित परिवार के घर से मीडिया को दूर कर दिया गया है।

परिवार का चौंकाने वाला बयान- हम अस्थियां नहीं लेने जाएंगे, पता नहीं कौन था वो
पीड़िता के परिवार ने चौंकाने वाला बयान देते हुए कहा है कि वह उन अस्थियों को लेने नहीं जाएंगे जिसे मंगलवार की देर रात पुलिस ने जलाया था। उनका कहना है कि हम नहीं जानते वो किसकी अस्थियां हैं, हमें तो हमारी बेटी का चेहरा तक नहीं दिखाया गया।

हाथरस में कोई दुष्कर्म नहीं हुआः विनय कटियार
विनय कटियार ने कहा है कि हाथरस में कोई दुष्कर्म नहीं हुआ है। वहां कुछ नहीं हुआ है, ये सब बेकार की बात है। योगी जी ने कड़े कदम उठाए हैं। योगीराज में कोई गड़बड़ नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं हुई है। इसे रेप की बात कहना बेकार की बात है। जब पत्रकार ने उनसे पूछा कि पीड़िता ने बयान दिया है तो उन्होंने कहा कि आपके पास क्या सबूत है, आप लोग बेकार की बात कर रहे हैं।

आज डीएनडी पर ही गिरफ्तार हो सकते हैं राहुल गांधी
गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने यह योजना बनाई है कि अगर आज भी राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस के लिए कूच करते हैं तो उन्हें डीएनडी पर ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। राहुल-प्रियंका को आगे नहीं बढ़ने दिया जाएगा।

पुलिस ने मीडिया से की अपील- जब अपर मुख्य सचिव- डीजीपी आएं, पीड़िता के घर को उपलब्ध कराएं निजता
यूपी के अपर मुख्य सचिव और डीजीपी के गांव पहुंचने से पहले पुलिस के कुछ आला अधिकारी यहां पहुंचे हैं और उन्होंने मीडिया से अपील की है कि जब दोनों अधिकारी यहां आएं तो परिवार के साथ उनको एकांत में समय दें। जब पत्रकारों ने एएसपी प्रकाश कुमार से पूछा कि क्या कैमरा रख सकते हैं तो उन्होंने कहा कि कैमरे के सामने परिवार से कैसे बात हो सकती है। हम बात कर लें फिर आप आ सकते हैं। वहीं परिवार ने इस पर कहा है कि हम अकेले में किसी से नहीं मिलेंगे, हमें अकेले में बात करने में डर लगता है। हमें नहीं पता वो हमसे अकेले में क्या करवाएंगे।

पीड़िता के घरवाले हुए मीडिया से परेशान, बनाई दूरी
आज सुबह से मीडिया के लिए पीड़िता का गांव खोल दिया गया है जिसके बाद दर्जनों पत्रकार गांव में पहुंचे। सुबह से ही अलग-अलग पत्रकार घरवालों से सवाल-जवाब कर रहे हैं। मीडिया के सवाल-जवाब से परेशान होकर घरवालों ने मीडिया से दूरी बना ली है। मीडिया से बचने के लिए परिवार के सभी लोगों ने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया है।

परिवार का आरोप- मीडिया को आने देना बहुत बड़ी चाल है
जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि आप लोगों को क्या लगता है कि मीडिया को क्यों अंदर आने दिया गया है। इस पर गांव के कई लोगों और पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया है कि इसमें प्रशासन की बहुत बड़ी चाल है। बीते दो दिन से कड़ी सुरक्षा थी और कल रात से धीरे-धीरे सुरक्षा व्यवस्था कम की गई। उन्हें डर है कि कहीं इससे उनकी बेटी इंसाफ से दूर न हो जाए।

एसडीएम ने किया धमकी के आरोपों से इनकार
पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया था कि प्रशासन उन्हें धमका रहा था जिस पर एसडीएम ने सफाई दी है। एसडीएम का कहना है कि पीड़िता के परिवार को किसी तरह की धमकी नहीं दी गई है। धमकी देने की बात सरासर गलत है।

आज राहुल और प्रियंका फिर हाथरस जाने की कर सकते हैं कोशिश
खबर है कि आज राहुल और प्रियंका गांधी फिर दोपहर 12.30 बजे तक हाथरस जाने की कोशिश कर सकते हैं। इसी के चलते यमुना एक्सप्रेसवे और जेवर टोल प्लाजा पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

यूपी के अपर मुख्य सचिव हाथरस आ रहे हैं
जानकारी के अनुसार आज यूपी के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी हाथरस और डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी आकर परिवार से मिलेंगे। उनके आने से पहले गांव में पुख्ता इंतजाम कर लिए गए हैं। ड्रोन कैमरे से गांव की निगरानी की जा रही है।

भाई ने कहा- प्रशासन ने हमें श्मशान घाट से 500 मीटर दूर रोका
पीड़िता के भाई ने कहा कि हम मुआवजा बढ़ाने की नहीं बल्कि न्याय की मांग कर रहे हैं। भाई ने कहा कि हमें सरकारी नौकरी भी नहीं चाहिए, मकान भी नहीं चाहिए आप मुआवजा भी ले लीजिए लेकिन मेरी बहन को न्याय दीजिए। भाई ने ये भी बताया कि बहन के शव को

मां ने कहां- मैंने पहनाए थे बेटी को कपड़े
कुछ पत्रकारों ने जब पीड़िता की मां से पूछा कि एडीजी तो कह रहे हैं कि आपकी बेटी का दुष्कर्म नहीं हुआ तो इस पर मां बोली कि मेरी बेटी मुझे निर्वस्त्र हालत में मिली थी। मैंने उसे कपड़े पहनाए थे।

परिवार का आरोप- डीएम ने हमें धमकाया
पीड़िता के परिवार का आरोप है कि मीडिया ने उन्हें धमकाया है। मीडिया को इजाजत देना प्रशासन की चाल है। पुलिस ने हमारे साथ मारपीट की। हमसे कहा कि क्या बेटी कोरोना से मरती तो मुआवजा नहीं मिलता। हमें यूपी पुलिस पर बिल्कुल भरोसा नहीं है। हमें इंसाफ चाहिए। परिवार ने ये भी आरोप लगाया है कि कल कोई एसआईटी की टीम घर नहीं आई। सिर्फ पुलिसवाले गांव में मौजूद थे। परिवार का ये भी आरोप है कि पुलिसवालों ने कहा कि तुम्हारे खाते में 25 लाख आ गए हैं अपना मुंह बंद रखो।

एसडीएम ने कहा एसआईटी की जांच पूरी इसलिए दी अनुमति
एसडीएम ने मीडिया को बताया कि एसआईटी की जांच अब पूरी हो गई है इसलिए आज से मीडिया को अनुमति दे दी गई है।

आरोपी लवकुश की मां मांग रही न्याय
आरोपी लवकुश की मां अब न्याय मांग रही हैं। वह कह रही हैं कि अगर मेरे बेटे गुनहगार हैं तो उन्हें गोली मार दी जाए आरोपी की मां का कहना है कि उनके बेटों को फंसाया गया है। पोस्टमार्टम में दुष्कर्म की बात भी सामने नहीं आई है। उसके भाई पर ही हत्या का आरोप लग रहा है। आरोपी की मां खुलकर बिटिया के घर के सामने ही हंगामा कर रही हैं और पीड़िता के घरवालों पर गंभीर आरोप लगा रही हैं।

उमा भारती ने मीडिया को गांव में जाने देने की अपील की थी
मालूम हो कि गांव में बैरिकेडिंग करके मीडियाकर्मियों को रोके जाने का विरोध खुद भाजपा के कई नेताओं ने किया था। उमा भारती ने भी ट्वीट कर मीडिया को रोके जाने को गलत बताया था। उन्होंने कई ट्वीट कर लिखा, योगी आदित्यनाथ जी आपको जानकारी होगी ही की मैं कोरोना पॉजिटिव होने के चलते एम्स ऋषिकेश के कोरोना वार्ड में भरती हूं। उन्होंने आगे लिखा, आज मेरा यहां सातवां दिन है और इसलिए मैं अयोध्या मामले पर विशेष सीबीआई कोर्ट में पेश भी नहीं हो पाई। यद्यपि मैं किसी से मिल नहीं सकती, फोन नहीं कर सकती लेकिन टीवी है जिससे की समाचार मिलते हैं।

वह आगे बोलीं, मैंने हाथरस की घटना के बारे में देखा। पहले तो मुझे लगा की मैं ना बोलूं क्योंकि आप इस संबंध में ठीक ही कार्यवाही कर रहे होंगे। किंतु जिस प्रकार से पुलिस ने गांव की एवं पीड़ित परिवार की घेराबंदी की है उसके कितने भी तर्क हों लेकिन इससे विभिन्न आशंकाये जन्म लेती हैं। वह एक दलित परिवार की बिटिया थी। बड़ी जल्दबाजी में पुलिस ने उसकी अंत्येष्टि की और अब परिवार एवं गांव की पुलिस के द्वारा घेराबंदी कर दी गई है।
उमा भारती ने ये भी कहा कि, मेरी जानकारी में ऐसा कोई नियम नहीं है कि एसआईटी जांच में परिवार किसी से मिल भी ना पाए। इससे तो एसाईटी की जांच ही संदेह के दायरे में आ जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here