30 सितम्बर 2020 तक चलेगा पोषण अभियान देश के प्रत्येक व्यक्ति को स्वस्थ रखना सरकार की प्राथमिकता

0
86

बाराबंकी । देश को मजबूत और सुरक्षित बनाने के लिए बच्चों का स्वस्थ होना जरूरी है। स्वस्थ बच्चे ही देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। इसलिए बच्चों के पोषण में विभागों के साथ आम लोगों की सहभागिता जरूरी है। एक भारत श्रेष्ठ भारत की कल्पना तभी साकार होगी। जब देश का हर व्यक्ति स्वस्थ होगा। इसी थीम पर पोषण अभियान के अंतर्गत महिलाओं और बच्चों के पोषण स्तर की बेहतरी के उद्देश्य से 1 से 30 सितंबर तक राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पोषण अभियान को प्रारंभ किया था। इसका मुख्य उद्देश्य जन आंदोलन और जनभागीदारी से कुपोषण को मिटाना है। इस वर्ष पोषण माह 2020 दो मुख्य उद्देश्य पर आधारित है। पहला अति कुपोषित बच्चों को चिन्हित और उनकी मॉनिटरिंग करना तथा दूसरा किचन गार्डन को बढ़ावा देने के लिए पौधारोपण अभियान है। प्रदेश स्तर पर इस वर्ष पोषण माह के दौरान में विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। पोषण माह के दौरान आयोजित की गई गतिविधियों की दैनिक प्रविष्टि भारत सरकार के जन आंदोलन पोर्टल http://poshanabhiyan-gov-in पर किया जा रहा है। पोषण माह के दौरान सघन अभियान संचालित कर बच्चों की ग्रोथ मॉनिटरिंग विभाग द्वारा की जा रही है। कोरोना संक्रमण काल में बच्चों की ग्रोथ मॉनिटरिंग प्रभावित हुई है। बच्चों को सूचीबद्ध करने, शारीरिक माप का रिकॉर्ड संधारण करने गंभीर कुपोषित बच्चों का पोषण प्रबंधन तथा निगरानी एवं मूल्यांकन किया जा रहा हैं।

बाल विकास एवं पुष्टाहार के क्रियाकलापों के साथ ही विभागीय अधिकारियों के भ्रमण की मॉनिटरिंग व्यवस्था को और प्रभावी बनाने के लिए विभाग ने यथार्थ नाम से एप तैयार कराया है। उक्त एप के माध्यम से ही विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन पर नजर रखी जाएगी।

30 सितंबर तक चलने वाले अभियान को 5 थीम पर संचालित है। इसमें नवजात शिशु की जन्म से लेकर पहले 1000 दिन तक देखभाल, ऊपरी पूरक आहार, दस्त से बचाव, एनीमिया की रोकथाम और स्वच्छता को शामिल किया गया है।

जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रकाश कुमार ने बताया कि पोषण माह के दौरान पहले सप्ताह में पुरुष भागीदारी, दूसरे में किशोरी, तीसरे में बाल और चैथे में माता सप्ताह का आयोजन किया जाएगा। पूरे महीने आंगनबाड़ी केंद्रों पर हर दिन अलग अलग गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इनमें वजन, सुपोषण, पंचायत मीटिंग, ऊपरी आहार, पोषण वाटिका, आंगनबाड़ी केंद्र सुदृढ़ीकरण, सुपोषण स्वास्थ्य मेला व झांकी, सुपोषण गूंज, रैली, पुष्टाहार से निर्मित व्यंजन बनाने की विधि का प्रदर्शन, प्रभातफेरी, बाल सुपोषण उत्सव, गोदभराई व अन्नप्राशन आदि गतिविधियां कराई जाएंगी।
[02/09 4:21 pm] Usha S V: सूचना विभाग, बाराबंकी
02.09.2020

प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के अन्तर्गत जनपद में किया जा रहा है विद्युतीकरण,
ग्रामीणों को प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना का लाभ उठाना चाहिए

निःशुल्क दिया जा रहा कनेक्शन
प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत जिन मजरों में विद्युतीकरण किया जा रहा है वहां कनेक्शन निःशुल्क दिया जा रहा है। मीटर का भी कोई शुल्क नहीं लिया जा रहा है। गांवों में बिजली विभाग के अधिकारी शिविर लगा रहे हैं। इसमें नए कनेक्शन के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

जनपद के करीब 300 मजरों में प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत तेजी से कार्य शुरू हो गया है। कोरोना की वजह से यह कार्य कुछ समय के लिए बाधित हुआ था। गांव से बाहर बने मकानों में भी जल्द विद्युतीकरण का कार्य शुरू होगा। जिले के सभी गांवों और मजरों में प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत विद्युतीकरण होना है। लेकिन कोरोना संक्रमण की वजह से यह बाधित हो गया था। इधर, कार्य जब शुरू हुआ तो इसमें और तेजी लाई गई है। दिसंबर तक सभी मजरों में विद्युतीकरण पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

मजरों में खंभे और तार खींचे जा रहे हैं। नए मीटर भी लगाए जा रहे हैं। जिन लोगों ने गांव से बाहर अपने मकान बनवा लिए हैं, उनके यहां भी कनेक्शन किया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं, जो गांवों और मजरों से निकलकर दूरदराज घर बनवा लिए हैं।

अधीक्षण अभियंता संजीव राणा का कहना है कि ग्रामीणों को प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना का लाभ उठाना चाहिए। नया कनेक्शन और मीटर निश्शुल्क लगाया जा रहा है तो इसमें किसी प्रकार की ढिलाई नहीं बरतनी चाहिए। इसके बाद भी अगर कनेक्शन नहीं लिया तो जांच कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here