2 सीट पर अड़ी रही तो उद्धव ठाकरे का निर्विरोध MLC बनना मुश्किल

    0
    464

    9/5/2020 महाराष्ट्र में कांग्रेस ने दो विधान परिषद सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा करके महाविकास आघाडी में शामिल शिवसेना और एनसीपी के लिए सिरदर्द बढ़ा दिया है। बीजेपी ने चार सीटों पर शुक्रवार को अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं। ऐसे में अगर कांग्रेस दो सीटों पर अड़ी रही तो उद्धव ठाकरे के निर्विरोध चुने जाने के अरमानों पर पानी फिर जाएगा।
    महाराष्ट्र में 9 विधान परिषद सीटों पर 21 मई होने वाले चुनाव को लेकर सियासी बिसात बिछाई जाने लगी है। कांग्रेस ने दो विधान परिषद सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा करके महाविकास आघाडी में शामिल शिवसेना और एनसीपी के लिए सिरदर्द बढ़ा दिया है। बीजेपी ने चार सीटों पर शुक्रवार को अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं। ऐसे में अगर कांग्रेस दो सीटों पर अड़ी रही तो उद्धव ठाकरे के निर्विरोध चुने जाने के अरमानों पर पानी फिर जाएगा।
    महाविकास आघाडी में शामिल शिवसेना ने अपने दो कैंडिडेट घोषित कर दिए हैं और एनसीपी भी दो सीटों पर लड़ने की तैयारी में है, जबकि कांग्रेस को सिर्फ एक सीट दी जा रही है। कांग्रेस नेता बालासाहेब थोराट ने साफ कर दिया है कि कांग्रेस एक सीट पर राजी नहीं है। ऐसे में अगर महाविकास के तीनों दल दो-दो प्रत्याशी उतारते हैं तो 6 प्रत्याशी हो जाएंगे और बीजेपी ने चार अपने घोषित कर दिए हैं। इस तरह 9 सीटों के लिए 10 प्रत्याशी मैदान में होंगे।
    बीजेपी ने विधान परिषद के लिए प्रवीण ददके, गोपीचंद पडलकर, अजित गोपछड़े और रणजीत सिंह पाटिल को प्रत्याशी बनाया है। शिवसेना की ओर से उद्धव ठाकरे और नीलम गोरे उम्मीदवार बनाए गए हैं। एनसीपी ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं, लेकिन कांग्रेस दो सीटों को लेकर अड़ी हुई है। कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोरात दो सीटों को लेकर महाविकास आघाडी के नेताओं से बातचीत कर रहे हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here