Connect with us

सीएए व एनआरसी पर भारतीय नागरिक किसी को दस्तावेज़ न दें- मौलाना यासूब अब्बास

Published

on

लखनऊ 14 जनवरी  2020 ऑल इंडिया शिया पर्सनल ला बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने कहा कि एनआरसी व सी ए ए देश के लिए सही नहीं है । इसके आने वाले परिणाम देश के लिए घातक साबित हो सकते हैं।
उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री व गृहमंत्री श्री अमित शाह जी को चाहिए कि भारत के 1 अरब 35 करोड़ लोगों का एतमाद हासिल करने के पश्चात ही इस कानून को दोबारा पुनर्विचार करके लागू करें इससे भारत के अल्पसंख्यक समाज हो या बहुसंख्यक समाज के बीच आपस की दूरियां कम होंगी व देश मज़बूत होगा साथ ही साथ एनआरसी से होने वाला आर्थिक बोझ से भी देश बचेगा साथ ही उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान के प्रत्येक नागरिक को चाहिए कि जब तक के वह सीएए व एनआरसी से संतुष्ट न हो जाए तब तक किसी भी प्रकार का दस्तावेज न दें ,हो सकता है कि इससे भारत सरकार की आंखें खुल जाए और जो लोग सीएए व एनआरसी के खिलाफ हैं और प्रदर्शन कर रहे हैं उनकी तरफ भारत सरकार संवाद कर सकें उस में होने वाली कमी को दूर करके भारतीयों के बीच अपना एतमाद बहाल करें ।
यह बात उन्होंने सुन्नी बुद्धिजीवी वर्ग के प्रतिनिधिमंडल के बीच कहीं उस उस प्रतिनिधिमंडल में खुसूसी तौर पर मोहम्मद खालिद साहब, रेहान अंसारी साहब, मदनी अंसारी साहब,मोहम्मद जुनैद,मसूद रामज़ी आदि मौजूद थे

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

Published

on

लखनऊ 31 मार्च 2020 आज आवास पर बैठक लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्पष्ट कहा कि पूरे प्रदेश में लॉक डाउन का पूरी तरह पालन हो इसमें किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि तबलीगी की जमात से जुड़े हुए लोगों की तेज़ी से तलाश की जाए, वे जहाँ मिले उन्हें तत्काल क्वारंटाइन किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आवश्यकता पढ़ने पर आपात सेवा के लिए रिटायर्ड आर्मी मेडिकल अफसरों के साथ ही साथ पूर्व स्वास्थ्य अधिकारियों और कर्मचारियों की भी सेवा लें ।
उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों में मौजूद उत्तर प्रदेश के नागरिकों की पूरी मदद की जाए, उनके भोजन आदि का प्रबंध अवश्य कराया जाए।
उन्होंने कहा कि संस्थानों के मालिक अपने कर्मचारियों और श्रमिकों के भोजन का हर हाल में प्रबंध करें, यदि वह नहीं कर पा रहे तो प्रशासन को सूचित करके सभी श्रमिकों और कर्मचारियों के भोजन का इंतज़ाम सुनिश्चित कराएं, प्रदेश में कोई भी भूखा नहीं रहना चाहिए।
राशन वितरण प्रणाली और बैंकों से लेन देन के दौरान भीड़ इकट्ठा न होने दी जाए पुलिस और होम गार्ड के जवानों की मदद से सारे हेल्थ प्रोटोकॉल पूरे कराएं जाएं ।
मुख्यमंत्रीजी ने कहा कि सरकार के पास उन लोगों का पूरा आंकड़ा मौजूद हैं जिन्हें उत्तर प्रदेश की सीमाओं से प्रदेश के अंदर अलग अलग हिस्सों में भेजा गया है, इन सभी लोगों को हर हाल में चिन्हित कर लिया जाए इनको हर हाल में क्वारंटाइन रखा जाए।
हर ज़िले में बड़ी संख्या में आश्रय स्थल बनाया जाएं, जो लोग भी लॉकडाउन का पालन करते हुए न दिखें और आश्रयहीन हो उन्हें इन आश्रय स्थलों में रखा जाए, जिन आश्रय स्थलों में सौ से ज़्यादा लोग हों वहाँ पर कम्युनिटी किचन शुरू किया जाए, जहाँ सौ से कम लोग हैं वहां उनके लिए भोजन पैकेट का इंतज़ाम किया जाए। उन्होंने कहा कि हर आश्रयस्थल मैं सारे हेल्थ प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन हो।
मुख्यमंत्रीजी ने कहा कि तमाम सामाजिक संस्थाएं और लोग इस आपदा के वक़्त में लोगों की भोजन आदि की मदद करना चाहते हैं, ऐसे लोगों से समन्वय स्थापित करके कुछ आश्रय स्थलों पर इनके माध्यम से भी भोजन पहुंचवाया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा आटा मिलें, दाल मिलें, तेल मिलें सभी हेल्थ प्रोटोकॉल का पालन करते हुए चलवाई जाएं।

Continue Reading

इन बैंकों ने ग्राहकों को दी ईएमआई ना भरने की तीन महीने की छूट।

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले रोज लोन लेने वाले ग्राहकों को बड़ी राहत की घोषणा की थी। RBI ने सभी बैंकों, गैर-बैंकिंग वित्‍तीय संस्‍थाओं (NBFC) और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों के साथ अन्‍य वित्‍तीय संस्‍थानों को टर्म लोन की किस्‍त तीन महीने तक टालने के लिए कहा था। RBI के इस आदेश के बाद कई बैंक सामने आए हैं जिनका कहना है कि वे ग्राहकों को लोन की EMI में तीन महीने की रियायत दे रहे हैं। इनमें UCOBank, MyIndianBank, syndicate, canara, IDBI, PSBIndOfficial, Bob, IOB, centralbank, pnbindia, BankofIndia अपने ग्राहकों को तीन महीने तक लोन की EMI से छूट दे रहे हैं।
RBI ने अपने बयान में कहा है, ‘सभी कॉमर्शियल, क्षेत्रीय, ग्रामीण, एनबीएफसी और स्‍मॉल फाइनेंस बैंकों को किस्‍त के भुगतान पर 3 महीने का मोरैटोरियम देने की अनुमति दी जाती है। यह वैसे सभी लोन के लिए प्रभावी होगी जिनकी ईएमआई 31 मार्च को जानी है।’
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के सेवानिवृत्‍त एक्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर एस सी कालिया ने इस मोरैटोरियम पर कहा कि मान लीजिए किसी व्‍यक्ति ने होम लोन, कार लोन या पर्सनल लोन लिया हुआ है। वह तीन महीने तक ईएमआई देने की स्थिति में नहीं है। RBI ने जो व्‍यवस्‍था अभी की है उसके अनुसार, तीन महीने तक ईएमआई न देने पर ग्राहकों के ऊपर न तो कोई पेनाल्‍टी लगेगी और न ही इससे उनका सिबिल स्‍कोर ही प्रभावित होगा। हां, इस वजह से उनके लोन चुकाने की अवधि तीन महीने के लिए बढ़ जाएगी।

Continue Reading

लखनऊ हजरतगंज में पुलिस कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग।

Published

on

लखनऊ 31 मार्च 2020  हजरतगंज चौराहे पर नेशनल मोबाइल मेडिकल यूनिट द्वारा पुलिस कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग की गई।
हजरतगंज चौराहे पर तैनात सभी पुलिसकर्मी फिट पाए गए।
डॉ अभय सिंह सीएमओ ऑफिस नेशनल मोबाइल मेडिकल यूनिट के द्वारा की गई स्कैनिंग।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2017 Zox News Theme. Theme by MVP Themes, powered by WordPress.