सीएए नागरिकता देने वाला कानून-बिंदु बोरा

    0
    219

    लखनऊ । नागरिकता संशोधन अधिनियम केवल नागरिकता देने के लिए है, किसी की नागरिकता छीनने का अधिकार इस कानून में नहीं है । सीएए से देश के नागरिकों की नागरिकता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा या कानून किसी भी भारतीय हिंदू मुस्लिम को प्रभावित नहीं करेगा । नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन में महिला एकल समिति की ओर से गुरुवार को लोहिया पार्क में आयोजित गोष्ठी में उक्त बातें उपाध्यक्ष बिन्दु बोरा ने कहीं । उन्होंने बताया कि नागरिकता संशोधन विधेयक के प्रति फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिये महिलाएं घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगी । अध्यक्ष कविता अग्रवाल एवं उपाध्यक्ष बिन्दु बोरा के नेतृत्व में हुई गोष्ठी में 16 फरवरी को होने वाले एकल महाकुंभ पर भी विस्तार से चर्चा की गयी ।अध्यक्ष कविता अग्रवाल ने कहाकि  सीएए से पाकिस्तान, अफ़गानिस्तान एवं बांग्लादेश में धार्मिक उत्पीड़न के कारण वहां से आए हिंदू, ईसाई, पारसी, जैन व बौद्ध शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी जाएगी, जो 31 दिसंबर 2014 से पहले से देश में रह रहे हैं । इस मौके पर बीना गोयल, सीमा अग्रवाल, रेखा मित्तल, रेनू अग्रवाल, अनुराधा मित्तल, आदर्श अग्रवाल, अमिता सिंह, वंदना, दीपा चंद्रा, मीनू शास्त्री, अंजना गोयल, अनुराधा बंसल सहित कई महिलाएं मौजूद रहीं ।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here