वो कारोबारी ​जिसने बनाया भारत का इनकम टैक्स ढांचा, मौत के बाद भुला दिया गया

    0
    46

    नई दिल्ली, 26 July, 2020
    26 जुलाई को इनकम टैक्स डे है. इस अवसर पर उस शख्सियत के जीवन के कई अहम पहलू पेश हैं, जिसे भारत में बजट और इनकम टैक्स व्यवस्था का जनक कहा जाता है.

    विल्सन को भारत में बजट- इनकम टैक्स सिस्टम का जनक कहा जाता हैस्कॉटलैंड में जन्मे इस कारोबार-अर्थशास्त्री की कलकत्ता में हुई थी मौत
    जेम्स विल्सन स्कॉटलैंड के कारोबारी, अर्थशास्त्री और राजनीतिज्ञ थे. उन्होंने द इकोनॉमिस्ट जैसी मशहूर पत्रिका, चार्टर्ड बैंक की स्थापना की थी. उन्हें भारत में बजट और इनकम टैक्स सिस्टम का जनक कहा जाता है. लेकिन इस प्रख्यात अर्थशास्त्री की जब कलकत्ता (अब कोलकाता) में मौत हुई तो उन्हें सामान्य व्यक्ति की तरह दफना दिया गया और लोग भूल गए।

    टैक्स के इतिहास को लेकर जुनूनी की तरह रिसर्च करने वाले इनकम टैक्स विभाग के एक जॉइंट कमिश्नर सीपी भाटिया ने साल 2007 में कोलकाता में उनकी कब्र तलाश ली और एक बार फिर से उनकी उपलब्धियों को दुनिया के सामने प्रचारित किया.

    जेम्स विल्सन का जन्म 1805 में स्कॉटलैंड के छोटे से कस्बे हैविक में हुआ था. उनके पिता विलियम विल्सन एक टेक्सटाइल मिल के मालिक थे. जेम्स जब युवा थे तब ही उनकी मां का निधन हो गया था. उन्होंने इकोनॉमिक्स की पढ़ाई की और हैट के एक कारखाने में नौकरी की. लेकिन जब वह 19 साल के ही थे, उनका परिवार ब्रिटेन के लंदन शहर में ​शिफ्ट हो गया.

    परिवार के सभी भाइयों ने मिलकर वहां एक कारखाना स्थापित किया. विल्सन को कारोबार में काफी सफलता मिली और 1837 में ही उनका नेटवर्थ 25000 पौंड तक पहुंच गया था. लेकिन उसी साल की आर्थिक संकट में वह अपनी ज्यादातर संपत्ति गंवा बैठे. दिवालिया होने से बचने के लिए उन्होंने 1839 में अपनी ज्यादातर प्रॉपर्टी बेच दी. इसके बाद उन्होंने 1853 में चार्टर्ड बैंक ऑफ इंडिया, आस्ट्रेलिया और चाइना की शुरुआत की. 1969 में इसका स्टैंडर्ड बैंक में विलय कर दिया गया और यह स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक में बदल गया.

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here