लॉक डाउन में घर पर रहना है तो अपनाएं ये तरीके: कुसुम भारती

    0
    525

    लखनऊ, 13 अप्रैल, 2020। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण के चलते लोगों में कोरोना को लेकर दहशत तो है ही। साथ ही इसे रोकने के लिए किये गए लॉक डाउन के चलते भी लोग परेशान हैं। इस दौरान घर से बाहर निकलने पर लगी पाबंदी को बोझ समझकर लोग बोरियत महसूस कर रहे हैं। जबकि ऐसा सोचने से संकट खत्म होने वाला नहीं है। इसलिए सकारात्मक सोचें और कुछ नए-नए तरीके आजमाकर अपने साथ परिवार के हर सदस्य के चेहरे पर मुस्कान बिखेरने की भी कोशिश करें। संकट का समय है, कट जाएगा। घर की लक्ष्मण रेखा पार करके खतरा मोल लेने से तो यही अच्छा है कि इन पलों को आप सब अपनों के साथ बिताकर अनमोल बनायें।

    घर पर फंसे नहीं बल्कि सुरक्षित हैं
    आप अपनी सोच में परिवर्तन लाएं। अगर बार-बार मन में आता है कि लॉक डाउन के चलते फंस गया हूं तो उसके दूसरे पहलू पर भी तो गौर करिए कि घर में रहने के चलते ही तो हम सब सुरक्षित हैं। घर के जरूरी सामान ख़त्म होने पर नया कैसे आएगा, इस सोच के साथ दुखी होने से बेहतर होगा कि आज जितने सामान उपलब्ध हैं पहले उनका ठीक तरह से इस्तेमाल करिए। यह सोच-सोचकर परेशान न हों कि सरकार किस तरह सब कुछ नियंत्रित करेगी बल्कि यह तय करिए कि मैं खुद को नियंत्रित करता हूं, सरकार तो सजग है ही।

    फोन पर दी जा रही सलाह
    हर जगह शट डाउन चल रहा है, कैसे चलेगा, आप इसकी जगह यह विचार करिए कि हर जगह जरूरी सामान मिल भी तो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग का पूरा प्रयास है कि लॉक डाउन के चलते उपजी परिस्थितियों के चलते लोग मानसिक तनाव का शिकार न होने पाएं। इसको ध्यान में रखते हुए टेलीफोन पर जरूरी परामर्श देने की व्यवस्था की गयी है।

    मनपसंद किताबें पढ़कर करें टाईम पास
    इसके अलावा लोगों को जागरूक करने का भी काम चल रहा है। इसके जरिये लोगों को सुझाव दिया जा रहा है कि लॉक डाउन के दौरान घर पर खुद को सक्रिय रखने के लिए कुछ मनपसंद पुस्तकें पढ़ सकते हैं। उपन्यास या प्रेरक कहानियां पढ़कर उससे मिली सीख को परिवार के अन्य सदस्यों के साथ शेयर कर सकते हैं। यह तरीका अगर परिवार के हर सदस्य आजमाते हैं तो समय अच्छे से व्यतीत होने के साथ ही नकारात्मक विचार भी मन में नहीं पनपने पायेंगे। इसके अलावा पसंदीदा फ़िल्में देख सकते हैं। नृत्य करने का शौक है तो उसका भी अभ्यास कर सकते हैं। मधुर संगीत भी सुन सकते हैं। यह तरीके जहां परिवार वालों को पसंद आएंगे, वहीं मानसिक स्वास्थ्य पर भी कोई गलत असर नहीं होगा। परिवारी जन व बच्चों के साथ लूडो ,कैरम ,शतरंज जैसे खेल भी खेल सकते हैं।

    ऑनलाइन योगा सीखें
    जिस किसी बहाने भी घर पर समय बिताने को मिला है उसका सदुपयोग कुछ इस तरह कर सकते हैं कि वह आपके पूरे जीवन काम आ सकता है। इस दौरान ऑनलाइन योगा व व्यायाम सीखा जा सकता है जो कि आपके शरीर को चुस्त और फुर्तीला बना सकता है। इसके अलावा इसको बाद में दूसरों को भी सिखा सकते हैं। ध्यान (मेडिटेशन) का भी सहारा लिया जा सकता है।
    यह बरतें सावधानी :
    – बार-बार साबुन और पानी से 40 सेकेण्ड तक हाथ धोएं।
    – हर समय दूसरे व्यक्ति से दो मीटर की दूरी बनाकर रखें।
    – घर से जब भी बाहर निकलें मास्क जरूर लगाएं।
    – बाहर से घर आने पर हाथों को अच्छे से धोएं तथा चेहरे-आंख को न छुएं।

    विशेष जानकारी के लिए यहां करें संपर्क
    ध्यान रहे कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखने पर जैसे सांस फूलना या अत्यधिक तेज बुखार होने पर तुरंत स्वास्थ्य विभाग के टोल फ्री नंबर 1800-180-5145 अथवा अपने जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी/ जिला सर्विलेंस अधिकारी से तुरंत संपर्क करें ।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here