लाल जी टंडन के नाम से जाना जाएगा चौक चौराहा : महापौर

    0
    50

    नगर निगम कार्यकारिणी समिति की सामान्य बैठक कोरोना संक्रमण से सदस्यों की सुरक्षा को देखते हुए महापौर संयुक्ता भाटिया की अध्यक्षता में ऑनलाइन गूगल मीट पर सम्पन्न हुई।

    राष्ट्रगान होने के पश्चात महापौर संयुक्ता भाटिया ने नगर निगम के पूर्व सभासद और वर्तमान में मध्य प्रदेश के राजपाल रहे श्रद्धेय लालजी टंडन जी को याद करते हुए एवं श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि श्रद्धेय लालजी टंडन जी ने सभासद से लेकर मंत्री सांसद सहित राज्यपाल के पद की गरिमा बढ़ाई और हमारे लखनऊ के नाम रोशन किया। श्रद्धेय लाल जी टंडन और लखनऊ दोनों ही एक दूसरे के बिना अधूरे है। महापौर ने उनके नगर विकास मंत्री रहते हुए किये गए कार्यों को याद करते हुए कहा कि लखनऊ में आज जो समुचित विकास दिखाई देता है उसकी नीव श्रद्धेय अटल जी के साथ श्रद्धेय लाल जी टण्डन जी ने ही रखी थी। महापौर ने कहा कि श्रद्धेय लाल जी टण्डन जी ने सड़को को बनवाया, तालाबो का सौन्दर्यकरण कराया और चौराहों को सुव्यवस्थित कराया। पूरे प्रदेश में सीवर लाइने डलवाकर हाथ से मैला उठाने की परिपाटी पर विराम लगाया। शहर की गंदगी को दूर करने के लिए कॉलोनियों व मोहल्ले से डेरियों को बाहर कराया। गरीबो को 5 से 15 रुपये प्रतिदिन के भुगतान पर मकान देना का साहसिक कार्य भी श्रद्धेय टंडन जी ने किया था। महापौर ने आगे कहा कि उनके द्वारा किये गए कार्य हम सब के लिए प्रेरणादायीं है और हमे उनके दिखाए मार्ग पर चलकर लखनऊवासियों और श्रद्धेय टंडन जी के सपनो का लखनऊ बनाना है।

    *माहापौर ने नगर निगम के पूर्व सभासद श्रद्धेय लालजी टंडन जी के निधन पर शोक व्यक्त किया और कार्यकारिणी समिति के साथ 2 मीनट का मौन रखा।*
    महापौर संयुक्ता भाटिया ने ने श्रद्धेय लाल जी टंडन को श्रद्धांजलि और श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए लखनऊ के प्रमुख *चौक चौराहे* का नाम *लालजी टंडन चौक* और *हरदोई रोड के दुबग्गा से चौक चौराहे* तक सड़क का नाम *लाल जी टण्डन मार्ग* रखने का प्रस्ताव कार्यकारिणी समिति के समक्ष प्रस्तुत किया, सभी सदस्यों में सहमति व्यक्त की। जिसपर महापौर ने नगर आयुक्त से विभागीय आख्या प्रस्तुत करते हुए संपादित कराने के लिए निर्देशित किया ।

    *कार्यकारिणी समिति के महत्वपूर्ण निर्णय*

    – पुष्टि के दौरान नागेन्द्र सिंह चौहान ने लेखा विभाग के भ्रष्टाचार का विषय उठाया, विगत कार्यकारिणी में प्रश्न उठाने और जाँच समिति बनाने के बाद भी कार्यवाही न होने पर नाराजगी जताई, नगर आयुक्त द्वारा कोई साक्ष्य उपलब्ध न होने की बात कही गयी जिसपर महापौर ने नगर को साक्ष्य उपलब्ध कराने के लिए नागेन्द्र सिंह चौहान को निर्देशित किया, साथ ही भ्रष्टाचार के विषय पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए माहापौर ने नाराजगी व्यक्त करते हुए नगर आयुक्त को निर्देश दिए कि 1 सप्ताह में जाँच कर रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए।

    – लेखा विभाग द्वारा मासिक आय व्यय का ब्यौरा प्रस्तुत न किये जाने पर महापौर ने नाराजगी जताई।

    – पुष्टि के दौरान मद परिवर्तन का पास किये गए प्रस्ताव पर विधिक राय ली जाएगी तब तक के लिए प्रस्तावित मदों से व्यय किये जाने पर तत्काल कार्यकारिणी समिति ने रोक लगा दी।

    -चीनी कम्पनी ईकोग्रीन के विरुद्ध विगत कार्यकारिणी समिति के निर्णय से तत्काल शासन को पत्र लिखकर लखनऊ नगर निगम की भावना से से अवगत कराया जाएगा।

    – आरआर विभाग का कबाड़ बेचने के लिए तत्काल नई समिति बनाकर निस्तारण का निर्णय लिया गया।

    – मोहन मार्किट / प्रताप मार्किट की आवंटित दुकानों को विक्रय करने वाले प्रस्ताव पर परीक्षण हेतु समिति बनाने के लिए निर्णय लिया गया , जो परीक्षण उपरांत अपनी रिपोर्ट माहापौर को प्रस्तुत करेंगी।

    – ग्राम जियामऊ की खसरा 196 की भूमि को दीन दयाल उपाध्याय सेवा न्यास को कब्जा हस्तांतरित किये जाने हेतु प्रस्ताव को पास किया गया।

    – वित्तीय वर्ष 2020-21 की वार्ड विकास निधि की दूसरी किश्त जारी करने के लिए महापौर ने नगर आयुक्त को निर्देशित किया।

    – जोन 8 की 7 मीटर से अधिक चौड़ी 29 सड़कों को अनुरक्षण हेतु लोक निर्माण विभाग को हस्तगत करने के निर्णय को पास किया गया।

    – खाली पड़े स्थानों पर नई पार्किंग बनाने एवं ऑटो – टेम्पो को स्थान चिन्हित कर व्यवस्थित करने के लिए पार्षदों एवम अधिकारियों की समिति बनाई जाएगी।

    *कार्यकारिणी समिति में लखनऊवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु निम्न निर्णय लिए गए।*

    – प्रत्येक जोन में 2 वरिष्ठ पार्षदों के साथ जोनल अधिकारी और नगर अभियंता संग *कोरोना संक्रमण निगरानी समन्वय समिति* तत्काल बनाई जाएगी, जिसका समन्वय उक्त जोन के प्रभारी अपर नगर आयुक्त करेंगे। समिति में वरिष्ठ पार्षदों के चयन महापौर जी द्वारा किया जाएगा। जो कि उक्त जोन में प्रत्येक वार्ड के पार्षद एवं वार्ड निगरानी समिति के साथ मिलकर संक्रमित पाए जाने वाले एरिया के आस पास सफाई- सेनेटाइजेशन, जागरूकता, बैरिकेडिंग इत्यादि नगर निगम द्वारा उपलब्ध करायी जा रही सेवाओं की निगरानी करते हुए सभी आवश्यक सेवाओं को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगी। और नियमित बैठक कर रिपोर्ट महापौर को प्रेषित करेगी।

    – महापौर ने निर्देषित किया कि नगर निगम अधिकारियों-कर्मचारियों, पार्षदों के कोरोना संकमित होने की दशा में नोडल अधिकारी के रूप में नगर आयुक्त समस्त सेवाओं को उपलब्ध कराएंगे।

    – 2 दिन साप्ताहिक बंदी के दौरान नियमित रूप से सभी बाजारों को विशेष रूप से सेनेटाइज किया जाएगा, इस दौरान स्थानीय व्यापार मंडल के पदाधिकारियों को सूचित भी किया जाएगा। महापौर ने बताया कि कई बार बाजारों को सेनेटाइज करने के बाद भी व्यापारियों को सूचना उपलब्ध नही हो पाती है और उनमे भ्रम पैदा होता कि सेनेटाइजेशन नही हुआ। इसलिए सेनेटाइजेशन के दौरान संबंधित बाजार के व्यापार मंडल के पदाधिकारियों को सूचित कर एवं साथ मे लेकर सेनेटाइजेशन किया जाएगा।

    – सभी जोनों में कोविड-19 संक्रमण की टेस्टिंग की व्यवस्था की गयी।

    – *कार्यकारिणी सदस्य राम कुमार वर्मा द्वारा लखनऊ में फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए क्षेत्रवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु प्रति वार्ड, वार्ड विकास निधि से कोरोना बचाव हेतु उपकरण एवं सामग्री को क्रय करने हेतु राशि की मांग की गयी, जिसपर महापौर ने नगर निगम द्वारा वार्ड विकास निधि से 5 लाख रुपये प्रति वार्ड पार्षद को संस्तुति पर कोविड-19 बचाव हेतु व्यय किये जाने की संस्तुति प्रदान की। जिसे कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से पास कर दिया।*

    – सदस्यों द्वारा 14वें वित्त की समय सीमा समाप्ति पर चिंता व्यक्त की गई जिसपर 14वें वित्त आयोग की धनराशि को व्यय करने की समयसीमा को बढ़वाने के लिए महापौर संयुक्ता भाटिया और नगर आयुक्त द्वारा प्रयास किया जाने का निर्णय किया गया। महापौर ने कहा कि लखनऊ के विकास के कार्यों में बाधा नही आने दी जाएगी।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here