लखनऊ सीएए व एनआरसी के ख़िलाफ महिलाओं का विरोध-प्रदर्शन-सिख समुदाय व सामाजिक संगठन,बुद्धिजीवियों का समर्थन जारी

    0
    733

    लखनऊ 19 जनवरी 2020 संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के विरोध में पुराने लखनऊ के घंटाघर पर  महिलाओं का प्रदर्शन कड़ाके की ठंड के बावजूद रविवार को तीसरे दिन भी जारी है।

    कड़ाके की ठंड  व खुले आसमान के नीचे पिछले शुक्रवार से बड़ी संख्या में महिलाएं दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर पुराने लखनऊ स्थित घंटाघर नियर रूमी गेट के सामने प्रदर्शन कर रही हैं। उनके साथ बच्चे भी हैं।

    इन महिलाओं का कहना है कि सरकार जब तक सीएए और एनआरसी को वापस नहीं लेती है, तब तक वे धरना समाप्त नहीं करेंगी।

    महिलाओं के धरने को सामाजिक संगठनों, बुद्धिजीवी वर्ग और आम नागरिकों का भी समर्थन मिल रहा है सिख समुदाय के कुछ लोगों ने शनिवार रात धरना स्थल पर पहुंचकर महिलाओं को खाने पीने का सामान दिया। उन्होंने कहा कि सीएए के दायरे से जिस तरह से मुसलमानों को बाहर रखा गया है, वह देश की गंगा जमुनी तहज़ीब के खिलाफ है, लिहाजा वे धरने पर बैठीं इन महिलाओं का समर्थन करते हैं।

    हालात के मद्देनजर मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। महिलाओं ने शनिवार रात पुलिसकर्मियों को गुलाब के फूल भेंट कर अनूठे तरीके से प्रदर्शन किया।

    इस बीच, धरना दे रही महिलाओं का आरोप है कि पुलिस ने रात में पहुंचकर उनसे कंबल छीन लिए और वह खाने पीने का सामान भी अपने साथ ले गई।

    इस बारे में जिला प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई लेकिन किसी से संपर्क नहीं हो सका।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here