प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दुनिया में फैले तमाम हिंदुस्तानियों को बगैर किसी भेदभाव के भारत वापस बुलाया

    0
    219

    लखनऊ 15 मार्च 2020 दुनियाभर के कई हिस्सों के साथ-साथ हिंदुस्तान  में भी फैल रहे कोरोना वायरस के चलते लोग बेहद सुरक्षा  बरत रहे हैं।

    कोरोना वायरस के लिए पॉजिटिव पाया गया था। दुबई जाने वाली एक फ्लाइट से करीब 289 लोगों को उड़ान भरने से पहले ही उतार दिया गया। दरअसल, फ्लाइट में सवार एक ब्रिटिश नागरिक कोरोना वायरस के लिए पॉजिटिव पाया गया था। कोचिन इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के कर्मचारी  ने बताया कि यह यात्री 19 लोगों के उस समूह का हिस्सा है जो केरल के मुन्नार नगर  में छुट्टियां मना रहा था और निगरानी में था। उन्होंने बताया कि वह मुन्नार में अधिकारियों को सूचित किए बगैर कोच्चि हवाई अड्डा पहुंचने के लिए समूह में शामिल हो गया। उन्होंने बताया कि जब जांच के नतीजे आए तो अधिकारियों को मालूम चला कि वह कोच्चि हवाईअड्डे पर है और अमीरात के एक विमान से यात्रा कर रहा है।

    पहले तो उसके समूह के सभी 19 यात्रियों को उतारने का फैसला किया गया। कर्मचारी  ने बताया, ‘अब बाकी के 270 यात्रियों को भी उतारने और उन्हें जांच के लिए अस्पताल भेजने का फैसला लिया गया है।’ केरल में कोरोना वायरस से एक मौत हो चुकी है।

    केंद्र सरकार  वा प्रधानमंत्री मोदी  की दूरदृष्टि की वजह से रेस्क्यू ऑपरेशन के मामले में भारत टॉप पर है। जहां पाकिस्तान जैसे देश ने अपने नागरिकों को चीन में ही छोड़ दिया, वहीं मई मोदी सरकार ने  दुनिया के हर देश से भारतीय नागरिक को निकाल लिया। हिंदुस्तान  से सबसे अधिक फ्लाइट भेजी गई हैं। समय रहते अपने नागरिकों को निकालने की वजह से भी यहां संक्रमण काफी कम है। हाल ही में ईरान से भी 234 भारतीयों को निकाल कर देश वापस लाया गया है। इस तरीके से हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 130 करोड़ जनता का बगैर किसी भेदभाव के सेवा करना साबित होता है

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here