डिब्बाबंद दूध से बनाये दूरी, माँ का दूध सबसे जरूरी

    0
    200

    लखनऊ, 23 मई 2020
    विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाव पर बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग ने बच्चों की सुरक्षा को लेकर निर्देश दिए हैं। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के निदेशक शत्रुघ्न सिंह ने शुक्रवार को सूबे के सभी जिलाधिकारियों को पत्र लिखकर इस सम्बन्ध में आदेश जारी किया है।
    पत्र के हवाले से जन्म के तुरंत बाद, छह माह तक केवल स्तनपान और दो साल तक माँ का दूध बच्चे के लिए सर्वोत्तम आहार है। आज कोरोना संक्रमण के दौरान अनेक सामाजिक संस्थाएं राहत कार्य के दौरान डिब्बा बंद दूध और कृत्रिम आहार बांट रही हैं। इस निर्देश के बाद इन डिब्बा बंद दूध, कृत्रिम आहार के वितरण पर रोक लगा दी गयी है।
    पत्र में कहा गया है कि डिब्बा बंद दूध के प्रयोग से हम धीरे-धीरे कृत्रिम दूध और आसानी से उपलब्ध विकल्पों का सहारा ले लेते है जिससे शिशु माँ के दूध से वंचित रह जाते हैं। कृत्रिम शिशु आहार स्तनपान तथा ऊपरी आहार का स्थान ले लेता है और बच्चों को कुपोषण के चक्र में डाल देता है। साथ में माँ में आत्मविश्वास की कमी आ जाती है।
    पत्र में कहा गया है विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार स्तनपान मोटापा एवं बाद में होने वाले उच्च रक्तचाप व दिल सम्बन्धी रोगों को भी अपेक्षाकृत कम करता है। ऐसे में 6 माह से पहले शिशु को डिब्बा बंद दूध या 6 माह बाद डिब्बा बंद आहार बच्चों में मृत्यु का खतरा बढ़ा सकता है।
    विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा यह सलाह दी गयी है कोविड के दौरान माँ यदि स्तनपान कराने में सक्षम नहीं है तो दूध को कटोरी में निकालकर कटोरी चम्मच से पिला सकती है। यदि माँ इतनी ज्यादा बीमार है कि दूध नहीं निकालकर भी नहीं दे सकती तो स्तनपान कराने के लिए दूसरी महिला से सहयोग ले सकती है। प्रत्येक दशा में मुंह में मास्क लगाते हुए तथा हाथों को साफ़ रखना है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here