चीन ने कोरोना जांच में विदेशी विशेषज्ञों को अनुमति देकर ट्रम्प के मुंह पर जड़ा तमांचा, अमरीकियों को बिल गेट्स पर है शक

    0
    76

    26/5/2020

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (डबल्यूएचओ) का कहना है कि चीन ने कोरना वायरस के फैलने के कारणों की जांच में विदेशी विशेषज्ञों को शामिल करने पर सहमति जता दी है।

    डबल्यूएचओ की इस घोषणा से अमरीका समेत उन देशों को तगड़ा झटका लगेगा, जो कोरोना वायरस का ठीकरा चीन के सिर फोड़कर अपनी असफलताओं पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे थे।

    अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो समेत कई अमरीकी वरिष्ठ अधिकारी चीन पर जानबूझकर कोरोना वायरस के मामले छुपाने और सही जानकारी उपलब्ध नहीं कराने का आरोप लगाते रहे हैं।

    वहीं कुछ लोगों का तो यहां तक कहना था कि यह वायरस चीन के ग्राउंड ज़ीरो वुहान शहर की एक लैब से निकला है।

    सिडनी मॉनिटरिंग हेराल्ड अख़बार की रिपोर्ट के मुताबिक़, इमरजेंसी मामलों में डबल्यूएचओ के निर्देशक माइकल रीयान ने चीन के भरपूर सहयोग के लिए इस देश की प्रशंसा करते हुए कहा है कि दुनिया के कई देश और डबल्यूएचओ यह जानने के लिए उत्सुक हैं कि कोविड-19 कैसे फैला?

    रीयान का यह भी कहना था कि एक अंतरराष्ट्रीय जांच दल के चीन के लिए रवाना करने की तारीख़ का अभी निर्धारण नहीं किया गया है, लेकिन इस संबंध में चीन की ओर से आने वाले संदेश उत्साहजनक हैं।

    इस बीच, एक नए सर्वेक्षण के परिणामों के मुताबिक़, अमरीकी नागरिकों की एक बड़ी संख्या कोरोना वायरस को लेकर अरबपति व्यवसायी बिल गेट्स को शक की निगाह से देखती है।

    सर्वेक्षण में अपनी राय रखने वाले लोगों से पूछा गया था कि क्या आपको लगता है कि कोरोना महामारी से मुक़ाबले के लिए टीकाकरण के बहाने बिल गेट्स लोगों में सूक्ष्म चिप्स लगाना चाहते हैं, ताकि उन्हें आसानी से ट्रैक किया जा सके और उनकी गतिविधियों पर नज़र रखी जा सके?

    फ़ॉक्स न्यूज़ चीवी चैनल को देखने वाले दर्शकों में 50 प्रतिशत लोगों ने इस सवाल का जवाब हां में दिया, जबकि ट्रम्प के समर्थकों में 44 प्रतिशत लोगों ने बिल गेट्स पर संदेह व्यक्त किया।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here