Array

गाजियाबाद से लखनऊ । छत का किराया 600 तो सीट का 1200

पाबंदी के बावजूद एक मीटर की दूरी बनाए रखना तो दूर सैकड़ों की संख्या में यात्री एक के ऊपर एक बैठकर सफर करने से भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। शनिवार दोपहर कानपुर के नौबस्ता में पुलिस ने जब एक प्राइवेट बस को रोककर उसकी चेकिंग की तो उनके होश उड़ गए। इस स्लीपर बस में ठूसठूस कर यात्री बिठाये गए थे। यहां तक कि बस की छत पर भी यात्री सवार थे।

पुलिस ने बस को रोककर सभी यात्रियों की थर्मल टेस्टिंग कराई। इन सबके बीच अधिक किराया देकर कुछ लोग बसों में भीड़ के बीच सफर करके संक्रमण के खतरे को बढ़ावा दे रहे हैं। समूह में चलने और बस आदि में सफर की पाबंदी के बाद भी हाईवे पर सफर करने वालों का नजारा देखने को मिल रहा है।

पूरे यूपी में सभी जिलों की सीमाओं को सील कर दिया गया है। इस सब के बाद भी कुछ समय के लिए वाहनों की आवाजाही की छूट मिलने के बाद हाईवे पर अब ऐसा नजारा दिखाई देने लगा है। गाजियाबाद से लखनऊ जा रही सवारियों से भरी बस को एसीएम प्रथम ने नौबस्ता बाईपास पर रोका और मेडिकल टीम को सूचना दी। सूचना पर पहुंची मेडिकल टीम यात्रियों की जांच की। हापुड़ निवासी बस चालक शहनवाज ने बताया कि गाजियाबाद प्रशासन की अनुमति लेकर लखनऊ, सीतापुर के लिए 27 मार्च को बस निकली थी।

पुलिस ने बस से यात्रियों को नीचे उतरवाया तो 120 लोगों को देखकर सभी दंग रह गए। डॉ. आलोक निगम, डॉ. राज बहादुर, डॉ. अजित सहित पांच लोगों की टीम ने यात्रियों का नाम पता व मोबाइल नोट किया। सभी की थर्मल टेस्टिंग कराई गई। यात्रियों ने बताया कि बस के अंदर बैठने वालों से एक हजार से बारह सौ रुपये और छत पर बैठने वालों से छह सौ से आठ सौ रुपये किराया वसूला गया है।

Previous articleराजा झाउलाल सद्भावना मिशन ने किया उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड द्वारा जारी निर्देश का स्वागत
Next articleगूगल के सीईओ सुंदर पिचाई देंगे 1,800 करोड़ रुपए की सहायता राशि। कैलिफोर्निया। गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर छोटे एवं मध्यम उद्यमों, स्वास्थ्य संगठनों एवं सरकारों और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए 6,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की घोषणा की है। पिचाई के आधिकारिक ब्लॉग के मुताबिक, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) और विश्व की सौ से ज्यादा सरकारी एजेंसियों के लिए करीब 1,800 करोड़ की सहायता अनुदान राशि की घोषणा की गई है ताकि वे स्थानीय समुदायों की मदद के लिए कोविड-19 का प्रसार रोकने के बारे अहम जानकारियां और अन्य साधन उपलब्ध करा सकें। इसके अलावा 150 करोड़ रुपये सामुदायिक वित्तीय संस्थानों एवं गैरसरकारी संगठनों, 2,500 करोड़ छोटे एवं मध्यम उद्यमों को उपलब्ध कराने की घोषणा की गई है। जबकि 1,500 करोड़ रुपये के निवेश कोष का मकसद दुनियाभर के गैर सरकारी संगठनों और वित्तीय संस्थानों की मदद करना है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,434FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles

Social Share Buttons and Icons powered by Ultimatelysocial