अर्थव्यवस्था को सुधारना अकेले प्रधानमंत्री कार्यालय के बूते की बात नहीं।रघुराम राजन

    0
    83

    22 मई 2020

    भारतीय रिज़र्व बैंक के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन का मानना है कि देश आर्थिक महाविनाश की कगार पर खड़ा है और अर्थव्यवस्था को सुधारना अकेले प्रधानमंत्री कार्यालय के बूते की बात नहीं है। इसलिए पूर्व वित्त मंत्रियों समेत कई दूसरे लोगों की मदद लेनी चाहिए और इसमें यह नहीं देखना चाहिए कि वह आदमी किस राजनीतिक दल का है। उन्होंने इस पर चिंता जताई कि स्थिति बदतर हो सकती है।
    ‘द वायर’ के साथ एक लंबी बातचीत में रघुराज राजन ने यह भी कहा कि सिर्फ कोरोना और लॉकडाउन की वजह से हुई आर्थिक तबाही ही नहीं, बल्कि इसके पहले के 3-4 साल में हुई आर्थिक बदहाली को भी दुरुस्त करना होगा।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here