अखिलेश यादव को राजनीतिक नुक़सान पहुंचाने की रणनीति

    0
    240

    जहां भारत की बड़ी जनसंख्या व तमाम देशों में सीएए,एनआरसी के ख़िलाफ सड़कों पर धरना,प्रदर्शन,भूख हड़ताल कर रही है,और इसी क्रम में कई पूर्व जज,आईएएस,आईपीएस, साहित्यकार,फिल्मकार,बुद्धिजीवी वर्ग इन कानूनों का विरोध करते नज़र आ रहे है।
    वही समाजवादी पार्टी के संस्थापक एवं संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू इस कानून का फेसबुक और वीडियो के माध्यम से समर्थन करती नज़र आ रही है।
    जहां समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव डॉ राम मनोहर लोहिया के देशहित के लिए उन आदर्शों गरीबों,बेरोजगारों,दलितों पिछड़ो,युवाओं और ख़ासकर अल्पसंख्यक के उत्थान,सुरक्षा,न्याय की लड़ाई से प्रेरित होकर उनके आदर्शों को आगे बढ़ाने का काम किया और इन आदर्शों पर चलते हुए ,
    उत्तर प्रदेश के कई बार मुख्यमंत्री व देश के रक्षा मंत्री रहे। उन्हीं आदर्शों को आगे बढ़ाते हुए ,राष्ट्रीय अध्यक्ष समाजवादी पार्टी एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आगे बढ़ाया और हर वर्ग के उत्थान,सुरक्षा,न्याय, सुरक्षा और विकास की हर श्रेणी में काम किया।
    जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश की राजनीति में उनका पहला स्थान है।
    आज समाजवादी पार्टी संस्थापक की छोटी बहू उन आदर्शों से विपरित सोच रखती नज़र आ रही है।
    कुछ सूत्र तो यह कहते हैं कि छोटी बहू को समाजवादी पार्टी की वर्तमान सक्रिय राजनीति में जगह न मिलने से समाजवादी पार्टी विचार धाराओं और अखिलेश यादव को राजनीतिक नुक़सान पहुंचाने की रणनीति के तहत ऐसे कानून को समर्थन करती नज़र आ रही है।

    क़म्बर रज़ा पत्रकार

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here